This page has moved to a new address.

विवाह के बाद पति-पत्नी के बीच के अधिकांश विवाद अविश्वास के हैं और कानूनी तरीके से निपटाए जाने के बजाए काउंसलिंग (समझाइश) से निपटाए जा सकते हैं